आप भी आसानी से गमले में उगा सकतें हैं करेला का पौधा, जानिए घर पर बीज से करेले कैसे उगाएं

न केवल करेला को बीज से उगाना आसान है, बल्कि गर्मियों में उनके प्रचुर मात्रा में फलने से यह सुनिश्चित होगा कि आपकी सब्जी की टोकरी कभी भी खाली नहीं होगी। आइये जानतें हैं घर पर बीज से करेले कैसे उगाएं (How to Grow Bitter Gourd at Home from Seeds in hindi) और कैसे इनकी देखभाल करें।

Bitter Gourd

भारतीय करेला आयरन, फाइबर, विटामिन ए और सी और पोटेशियम का एक उत्कृष्ट स्रोत है जो रक्त शर्करा (Blood sugar) के स्तर को नियंत्रित करने और पाचन में सुधार करने में सहायता करता है। करेले में कुनैन नामक यौगिक भी होता है जो उन्हें कड़वा स्वाद देता है।

आजकल बाजार में एक नहीं बल्कि कई तरह के करेले आसानी से उपलब्ध हैं। लेकिन, कई लोग करेला खरीदते समय यह भूल जाते हैं कि आजकल ताजा और केमिकल मुक्त ऑर्गनिक करेला मिलना कितना मुश्किल है। आजकल लगभग हर हरी सब्जी केमिकल फ़र्टिलाइज़र से उगाई जाती है। इसीलिए अधिकतर लोग अपने गार्डन में ऑर्गनिक तरीके से तरह-तरह की हरी सब्जियाँ उगाते रहते हैं।

घर पर कोई भी सब्जी उगाने का मतलब है रसायन मुक्त हरी सब्जियां। आज हम आपको घर पर गमले में उगाने वाले करेले के पौधे के बारे में बताने जा रहे हैं। इन स्टेप्स की मदद से आप आसानी से ताज़ा करेले उगा सकते हैं। तो आइए जानते हैं घर पर बीज से करेले कैसे उगाएं।

प्रो टिप: कड़वाहट कम करने के लिए करेले को 20-30 मिनट तक नमक के पानी में भिगोया या उबाला जा सकता है।

बीज से करेले उगाने के लिए आपको कुछ सामान की जरूरत पड़ेगी.

  1. करेले के बीज
  2. गमला या ग्रो बैग
  3. मिट्टी
  4. खाद

करेले का परिचय – Introduction to Bitter Gourds

करेला एक बेलदार पौधा है जो गर्मियों की तेज धूप में खीरे या खरबूजे की तरह उगता है। करेले की बेलें 150 से 190 इंच तक लंबी हो सकती हैं। करेले की पत्तियाँ प्रमुख रूप से मुड़ी हुई होती हैं, जबकि करेले के फलों की त्वचा मस्सेदार और अत्यधिक पसलियों वाली होती है। करेले के छिलके के नीचे, करेले का गूदा मलाईदार सफेद और दृढ़ होता है।

करेले कहाँ उगाएं – Where To Grow Bitter Gourds

करेले कहाँ उगायें - Where To Grow Bitter Gourds

सामान्य ग्रीष्मकालीन सब्जियों में शामिल करेले को घर के गार्डन में गमले में उगाना आसान है करेले को अच्छी तरह से विकसित होने के लिए बहुत गर्म और आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है। करेले के बीज ऐसे स्थान पर लगाएं जहां प्रतिदिन 6 से 8 घंटे धूप आती हो। 15 से 20℃ तक के मिट्टी के तापमान में बीजों को अंकुरित होने में 8 से 10 दिन लगेंगे। करेले को बड़े होने और तोड़ने लायक होने में लगभग 55-60 दिन लगेंगे।

करेले के बीज लगाने से पहले मिट्टी में अच्छी तरह से सड़ी पुरानी खाद मिलाकर गमले की मिट्टी तैयार करें। सुनिश्चित करें कि करेले के बीज लगाने के लिए मिट्टी अच्छी जल निकासी वाली और हल्की हो। जमीन पर करेले की बेलें उगाते समय, फलों को गंदा होने या नम मिट्टी में सड़ने से बचाने के लिए मिट्टी में मचान बनाना आदर्श होता है।

कंटेनरों या ग्रो बैग में आसानी से करेले की खेती भी की जा सकती है। ऐसा कंटेनर चुनें जो कम से कम 18×18 इंच साइज़ की क्षमता का हो। प्रति कंटेनर केवल एक करेले का पौधा उगाने और क्रीपर नेट या तार की जाली के साथ पर्याप्त ऊर्ध्वाधर समर्थन प्रदान करने की सिफारिश की जाती है।

बीज से करेले कैसे उगाएं- How To Grow Bitter Gourds

बीज से करेले कैसे उगाएं - How To Grow Bitter Gourds from seeds

सही बीज चुनें

कोई भी हरी सब्जी जैसे टमाटर, बैगन, भिंडी आदि। इन सभी की पैदावार तभी अच्छी हो सकती है जब इनके बीज सही हों। आप चाहे कितनी भी मेहनत कर लें, अगर सब्जियों के बीज सही नहीं होंगे तो आपकी मेहनत बेकार साबित हो सकती है। इसलिए गार्डन में किसी भी सब्जी के पौधे लगाने से पहले सही बीज का चयन अवश्य कर लें। करेले के बीज खरीदने के लिए आप बीज की दुकान पर जा सकते हैं या फिर ऑनलाइन भी करेले के बीज खारीद सकते हैं। ऑनलाइन में एक से एक किस्म के बीज आसानी से मिल जाते हैं, जो अच्छे फल भी देते हैं। आपको किचन गार्डन में बीज सेकरेला उगाने के लिए कम से कम एक पैकेट बीज अवश्य खरीदना चाहिए।

गमला या ग्रो बैग तैयार करें

करेले के बीज खरीदने के बाद बारी आती है गमला या ग्रो बैग तैयार करने की. करेले का पौधा लगाने के लिए आपको बड़े साइज़ का गमला या ग्रो बनग ही चुनना चाहिए। इससे करेले के पौधे को पोषक तत्व आसानी से मिल जाते हैं। अब गमले में मिट्टी डालें. मिट्टी डालने के बाद मिट्टी को एक या दो बार अच्छी तरह से खुरच लें. मिट्टी को खुरचने से मिट्टी में मौजूद नमी आसानी से निकल जाएगी। इसे कुछ घंटों के लिए धूप में रखें। इसे धूप में रखने से मिट्टी में मौजूद विषैले तत्व आसानी से नष्ट हो जाते हैं।

सही खाद का चुनाव

करेले की रोपाई के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक यह है कि आप उर्वरक का चयन कहां से और कैसे कर रहे हैं। यदि आप ऑर्गनिक करेला उगाना चाहते हैं तो आपको रासायनिक उर्वरकों की बजाय प्राकृतिक उर्वरकों पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए आप गाय, भैंस आदि के गोबर की खाद का उपयोग कर सकते हैं। अगर यह खाद उपलब्ध नहीं है तो भी रसोई में मौजूद फलों और सब्जियों की पत्तियों को भी खाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। किचन वेस्ट से बनी जैविक खाद को मिट्टी में अच्छी तरह मिला दें।

करेले के बीज लगाएं

मिट्टी तैयार करने और मिट्टी में उर्वरक मिलाने के बाद अगला कदम बीज बोना है। करेले के बीजों को गमले में लगभग 1-2 इंच गहरे लगाएं। अधिक ऊंचाई पर बीज बोने से न तो पौधा मजबूत होता है और न ही फसल अच्छी होती है। इसलिए बीज बोते समय इस बात का ध्यान रखें. बीज बोने के बाद आवश्यकतानुसार पानी देना न भूलें.

करेले के बीज अंकुरण में तेजी लाने के लिए इसे रात भर भी भिगोया जा सकता है। भीगे हुए बीजों को सीधे बगीचे में रोपें और मिट्टी से ढक दें। दो पौधों के बीच कम से कम 12 से 15 इंच की दूरी रखें.

अंकुरण होने तक मिट्टी को समान रूप से नम रखें। चूँकि करेले गर्म गर्मी के महीनों में उगाए जाते हैं, अंकुर स्थापित होने के बाद मिट्टी को बार-बार पानी देने की आवश्यकता होगी। कंटेनरों या ग्रो बैग में करेला उगाने पर मिट्टी अपेक्षाकृत तेजी से सूखने लगती है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि अपनी अंगुलियों की नोक से मिट्टी की जांच करते रहें और मिट्टी छूने पर सूखी लगे तो धीरे से पानी डालें।

करेले की बेलों को लंबवत रूप से उगाने के लिए जाली या क्रीपर नेट लगाना आवश्यक है। रोपण के समय एक मजबूत जाली लगाएं जो कम से कम 5 से 6 फीट लंबी हो। करेले को लंबवत रूप से उगाने से फल के आकार को बनाए रखने में भी मदद मिलती है।

अधिकांश कद्दूवर्गीय सब्जियों की तरह, करेले भी एफिड्स, ककड़ी बीटल और फल मक्खियों जैसे कीटों के प्रति संवेदनशील होते हैं। करेले की लताओं पर कड़ी नज़र रखना और उनपर मौजूद कीड़ों को मैन्युअल रूप से हटाना या नीम तेल स्प्रे का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। कीटों को नियंत्रित करने के लिए करेले के पौधे के आसपास मौजूद किसी भी खरपतवार को हटा दें।

खरपतवार को हटाएं

कई बार गमले में पौधा लगाने के बाद उसके साथ अतिरिक्त खरपतवार भी उगने लगते हैं। ऐसे में आप समय-समय पर इन्हें हटाते रहें। लगभग एक महीने के बाद गमले में एक से दो बड़ी लकड़ियाँ लगा दें। इससे करेले की बेल इन डंडियों के सहारे से खड़ी रहेंगी. इससे पौधे के फल नीचे या जमीन पर नहीं जायेंगे. इस लकड़ी में आप रस्सी भी लपेट सकते हैं. लगभग दो से तीन महीने में पौधे से करेला निकलने लगता है, जिसे तोड़कर आप सब्जी बना सकते हैं.

करेले की देखभाल कैसे करें – How to take care of bitter gourd

करेले की देखभाल कैसे करें - How to take care of bitter gourd

यदि आपने शुरुआत स्वस्थ, उपजाऊ मिट्टी से की है तो करेले की बेलों की देखभाल करना आसान है। उनकी वृद्धि और फसल के लिए याद रखने योग्य कुछ मुख्य बिंदु हैं:

पानी

फलों के अच्छे विकास के लिए करेले की रोपण क्यारियों को समान रूप से नम रखना आवश्यक है। सुबह या शाम के समय जब मिट्टी छूने पर सूखी लगे तो धीरे से पानी दें।

मिट्टी

करेले को 5.5 से 6.5 के बीच पीएच के साथ पुरानी खाद या खाद के साथ मिश्रित पोषक तत्वों से भरपूर अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी की आवश्यकता होती है। पौधे की आदर्श वृद्धि के लिए मिट्टी की अच्छी जल निकासी आवश्यक है।

उर्वरक

करेले के बीज बोने से पहले मिट्टी में खाद मिलाकर तैयार करें। विकास के दौरान, कुछ पुरानी खाद का उपयोग साइड ड्रेसिंग के रूप में किया जा सकता है या यदि मिट्टी उपजाऊ नहीं है तो वर्मीकम्पोस्ट या गोबर की खाद का भी उपयोग किया जा सकता है।

करेले की हार्वेस्टिंग का समय क्या है

करेले की हार्वेस्टिंग का समय क्या है

बुआई के 55 से 60 दिन के अंदर करेले फल देने लगेंगे. जब करेले 4-5 इंच लंबे और गहरे हरे रंग के हो जाएं तो उनकी कटाई शुरू कर दें। यदि फलों को इससे अधिक देर तक बेल पर पकने के लिए छोड़ दिया जाए तो उनका रंग बदलकर हल्का पीला या नारंगी हो जाएगा और वे स्वादहीन हो जाएंगे। पूरे मौसम में नए फलों को बढ़ावा देने के लिए करेले के फलों को हर 2-3 दिन में तोड़ें।

तरकीब यह है कि करेले को सही समय पर तोड़ा जाए। यह सही समय है जब फल न तो बहुत छोटा हो, न बहुत बड़ा हो, न ही बहुत सख्त और रेशेदार हो। करेले का फल ठंडे क्षेत्रों की तुलना में गर्म क्षेत्रों में दोगुनी तेजी से पकता है।

अब तो आप समझ गए होंगे घर पर बीज से करेले उगाना काफी आसान है। आज ही ऑनलाइन करेले के बीज खरीदें  और उन्हें उगाना शुरू करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *